चुनावी मौसम में फेसबुक डाउन?


#1

इंटरनेट ने पूरी दुनिया को आपके फोन में ला दिया है,इसमें भी बहुत से लोगों के लिए नेट का मतलब फेसबुक ही हो कर रह गया है। हालाँकि यह बात कुछ अफ्रीकी देशों में हुए सर्वे में आयी थी की वहाँ बहुतेरे लोगों को नेट का मतलब फेसबुक से था,इसके अलावा कुछ नहीं। ऐसे में कुछ देर के लिए फेसबुक बन्द हो जाए तो क्या होगा?


खबर है कि दुनिया के तमाम इलाकों में फेसबुक में दिक्कत हो गयी तो हड़कंप मच गया।लोगों को कुछ भी पोस्ट करने में दिक्कत आने लगी, साथ ही इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप पर भी दिक्कत है।हालांकि फेसबुक ने साफ़ किया है कि यह किसी प्रकार की हैकिंग का नतीजा नहीं है और कुछ तकनीकी दिक्कत है जिसे दूर कर लिया जायेगा लेकिन सोशल मीडिया को ही अब अपना जीवन बना चुके लोगों का धैर्य जवाब देने लगा।
भारत में भी थोड़ी बहुत दिक्कत की खबर है लेकिन सोचिये जरा की चुनावी माहौल में अगर वास्तव में फेसबुक और व्हाट्सएप्प बन्द हो जाएं तो क्या होगा?आज ये प्लेटफॉर्म भोजन और नींद से अधिक जरूरी हो गए हैं तमाम लोगों के लिए और इसमें सबसे बड़ा हाथ में देश में उपलब्ध सस्ते डाटा का।अपनी पारिवारिक तस्वीरें अनजान लोगों को दिखा कर लाइक पाने की चाहत से अधिक अब फेसबुक जनसंवाद का बहुत बड़ा माध्यम है क्योंकि किसी निश्चित एजेंडे के साथ कुछ भी लिख कर फैला देने के लिए इससे सस्ता और तेज़ फिलहाल कोई दूसरा माध्यम नहीं है।

डाटा चोरी करने,सरकार से लेकर प्राइवेट कंपनियों को उसे बेचने और तमाम तरह के आरोपों के बीच भी लोग अब इस प्लेटफार्म के बुरी तरह आदी हो चुके हैं,साथ ही कुछ लोगों के लिए जीना मरना भी यहीं है।ऐसे में यदि एकाएक यह गायब ही हो जाए तो क्या होगा?