ये क्या हो रहा है भाई


#1

अभी दो दिन पहले तक टीवी पर भाजपा की धज्जियाँ उड़ाने वाले राहुल-सोनिया परिवार के ख़ास,केरल से आने वाले वरिष्ठ कांग्रेसी टॉम वदक्कम का भाजपा में आना लोगों को हजम नहीं हो रहा था तब तक शीला दीक्षित का आतंकवाद से निपटने के मामले में प्रधानमंत्री मोदी का तारीफ़ करना?यह भले किसी सधे राजनीतिज्ञ की तरफ से सच बयान करना हो या खंडन आ जाए की उनकी बातों का गलत अर्थ निकाल लिया गया लेकिन इसका असर दिल्ली में कुछ लोगों के दिलों पर पड़ेगा ही क्योंकि शीला दीक्षित के ऊपर ही कम से कम दिल्ली में कांग्रेस को पार लगाने की जिम्मेदारी है।
विश्लेषक लोग चाहे जो कहें लेकिन केजरीवाल को मौका मिल ही गया कहने का की देखो सब मिले हुए हैं जी।हो सकता है अब केजरीवाल राहुल गाँधी की कोठी के बाहर धरना दें,शीला दीक्षित को कांग्रेस से निकलवाने के लिए।


#2

image