मूंछें कटाने से हारी आस्ट्रेलिया


#1

आस्ट्रेलिया की टीम मोहाली में खेले गए तीसरे टेस्ट मैच में भी बुरी तरह हार गई। कभी क्रिकेट की दुनिया में एकछत्र राज करने वाली टीम का ये हाल देख कर एक्सपर्ट्स बहुत चिंतित हैं। कुछ लोग ये आशंका व्यक्त कर रहे हैं कि कहीं इस टीम का भी हाल महान वेस्टइंडीज़ की तरह न हो जाय, जो कभी अपराजेय थी। चाहे भारत की क्ले कोर्ट मार्का पिचें हों या आस्ट्रेलिया के घास के मैदान, इंडीज़ बालर जान निकाल कर रख देते थे। उनके बैट्समैन भी किसी भी ग्राउंड को बच्चों के पार्क की तरह ट्रीट करते थे, गब्बर सिंह से ज्यादे मशहूर हैं उस कातिल टीम के किस्से। लेकिन आज देखिये उसी टीम के खिलाड़ी दुनिया भर में घूम कर केवल टी ट्वंटी तमाशे में नाम और दाम कमा रहे हैं। ऐसे ही लगता है की कंगारुओं के भी दिन पूरे हो गए हैं।

उनकी संस्था क्रिकेट आस्ट्रेलिया इस विषय पर गंभीरता से चिंतन कर रही है और कुछ समय पहले ही रग्बी में पूरा जीवन बिताने वाले एक एक्सपर्ट पैटहॉवर्ड को टीम का हाई परफार्मेंस मैनेजर बनाया गया। चूंकि रग्बी में फिटनेस का स्तर क्रिकेट से कहीं अधिक होता है इसलिए उन खिलाड़ियों का ट्रेनिंग मोड्यूल भी अलग होता है। हॉवर्ड ने क्रिकेट में भी अपना फंडा चलाया, खिलाड़ियों को रोज़ सुबह लिख कर देना होता है कि रात कैसे सोए, पेट साफ़ हुआ कि नहीं, आदि इत्यादि। इस कदम की पुराने दुश्मन इंग्लैंड के खिलाड़ियों ने खूब मजाक उड़ाया। महान हरफनमौला इयान बाथम ने ट्वीट किया कि उनके ज़माने में ये सवाल होता तो जवाब देते कि ‘कल तो नहीं, परसों दो के साथ सोये थे’। जो बाथम को नहीं जानते उन्हें पता होना चाहिए कि जहाँ टीम रुकती थी वहां बाथम के लिए स्पेशल बेड का इंतजाम होता था, क्योंकि अक्सर सुबह उनका बेड टूटा हुआ मिलता था। उनमें बहुत दम था, इसी दमदार प्रदर्शन के चलते बाथम को ब्रिटेन की महारानी ने सर की उपाधि प्रदान की थी। आप को पता होगा की लाला अमरनाथ को इंग्लैण्ड से बीच दौरे में वापस हिंदुस्तान के जहाज पर चढ़ा दिया गया था, क्योंकि उन पर आरोप लगा था कि उनकी दिलचस्पी क्रिकेट से अधिक गोरी औरतों में थी।

खैर हम बात कर रहे हैं टीम आस्ट्रेलिया की। टीम का कोच पहली बार किसी विदेशी यानि साउथ अफ़्रीकी मिकी आर्थर को बनाया गया ताकि वो लोकल राजनीती में नहीं पड़ेंगे। बताया जाता है की मिकी भी बहुत कड़े मिजाज़ के हैं। चेन्नई और हैदराबाद में भारी पराजय के बाद कोच ने अपने खिलाड़ियों को एक निबन्ध लिखने को दिया की हम अगला मैच कैसे जीतेंगे। ज्यादातर खिलाड़ियों के लिए लिखापढ़ी उनके एजेंट करते हैं सो ये खिलाड़ी कहाँ से निबन्ध लिखते। किसी तरह लिखने की कोशिश हुई फिर भी चार खिलाड़ी नहीं लिख पाए और बाहर कर दिए गए। याद करिए पिछले साल अफ्रीकियों को टेक्स्ट भेजने के आरोप में इंग्लैंड ने अपने एक काबिल खिलाड़ी को बाहर किया था और अब आस्ट्रेलिया ने एक अफ़्रीकी को टेक्स्ट न भेजने के आरोप में चार को बाहर कर दिया। ग्राउंड पर वर्क की जगह स्कूली बच्चों की तरह होमवर्क? ये भी क्रिकेट इतिहास की महान घटना बन गयी। हारना तो था ही, पूरी टीम का कुछ समय से बोझ उठाये कप्तान क्लार्क की कमर मोहाली आते आते जवाब दे गई। एक ऐसी टीम जैसी ब्रायन लारा की टीम, एक अकेला लारा। बिचारा रिकार्ड बनाते रहता था और टीम पिटती जाती थी।

अभी पता चला है की जो चार खिलाड़ी बाहर किये गए थे उन सबने मिल कर पेपर तैयार कर लिया है की भारत से कैसे जीता जाय। यह टॉप सीक्रेट सबसे पहले गपागप न्यूज़ के रिपोर्टर तक पहुँच चुका है। जिसमें सबसे अधिक चर्चा भारतीय खिलाड़ियों के मूंछों की है। सभी मैचों में भारत के उन बल्लेबाजों ने हाई परफार्मेंस दिया जो शेव करके नहीं आये थे। मुरली विजय हों या चे पुजारा सबने पीटा,कप्तान धोनी भी बगैर शेव किये ही धोने में सफल हो सके। मोहाली पहुंचते ही जो हुआ उसकी रिपोर्ट आस्ट्रेलिया के भी अखबारों ने लगायी तो शिखर धवन की मूंछों पर ताव देती हुई तस्वीर के साथ,ये तस्वीर भी इस सीक्रेट पेपर के साथ अटैच है। बताया जाता है की धवन ने इतिहास की सबसे धुआंधार डेब्यू इनिंग न खेली होती तो चार दिन में मैच का फैसला होना असम्भव था। रिपोर्ट में ये भी है की रेज़र बनाने वाली कंपनियों के विज्ञापन उनको मिलते नहीं साथ ही परफार्मेंस बढ़ाने के नाम पर गर्लफ्रेंड्स को भी साथ लाने की इज़ाज़त नहीं थी,ऐसे में टीम आस्ट्रेलिया को चाहिए की अपने सभी खिलाड़ियों के लिए मूंछें बढ़ाने का आदेश जारी करें। इस आदेश से उनकी पर्सनल लाईफ पर कोई असर नहीं पड़ेगा। पकिस्तान मूल के उस्मान ख्वाजा ने तो सीधे लिखा है की उनको भी मूंछ नहीं तो हाशिम अमला की तरह दाढ़ी ही बढ़ाने की इज़ाज़त मिलनी चाहिए। पर कमेंट्री करने आए एलन बोर्डर ने कुछ समयपहले कहा था कि ख्वाजा को किसी मैच में खिलाया तो गया नहीं, हाँ मैदान पर पानी पिलाने के दौरान की गयी गलतियों में भी वो सुधार करना नहीं चाहता। ख्वाजा की शिकायत थी की ब्रेक के दौरान वो केला छील कर और संतरा बिना छीले खिलाड़ियों को पकड़ा देते थे। रमीज़ राजा ने इसका बचाव करते हुए कहा की सबकंटीनेंट के लोगों का माईंड सेट यही है और बैटिंग नहीं करानी है तो कम से कम पानी पिलाने का अधिकार किसी से नहीं छीना जाना चाहिए।

अपनी प्रेस कांफ्रेंस में कोच ने कहा की उनको रिपोर्ट मिल गयी है और तत्काल अमल करते हुए सभी खिलाड़ियों की शेविंग किट जब्त कर ली गयी है। क्लार्क ने भी अपने प्रशंसकों से वादा किया है कि दिल्ली में टीम का चेहरा सबको बदला हुआ दिखेगा। और दर्द के मारे वो खेल नहीं पाए तो कप्तानी का बोझ टीम के सबसे खूबसूरत खिलाड़ी शेन वाटशन को सौंपा जा सकता है। चालीस टेस्ट में दो शतक का शानदार रिकार्ड रखने वाले वाटो, बताया जाता है कि अपने खूबसूरत संबंधों के चलते टेस्ट खेलते रहते हैं। पर अबकी उनका भी दावा है कि हम कोच की हर बात मानेंगे और दिल्ली में बेहतर प्रदर्शन करेंगे, क्योंकि आईपीएल में अपनी फैन फालोइंग बनाये रखने का ये मौका रहेगा।

इसी बीच, गपागप की दिल्ली डेस्क से खबर मिली है कि विरेन्दर सहवाग भी कई दिनों से बगैर शेव किये गौतम गंभीर के साथ घूमते देखे गए हैं। उनको डर है की इस फोड़ू का तोड़ अगर धवन में दिखने लगा है तो गर्मियों में इनका बाज़ार ठंढा पड़ जायेगा क्योंकि शीतल पेय बनाने वाले, नए एड शूट के लिए बोले थे पर धवन की मूंछों का ताव देख अब कोई कंपनी गौती-वीरू की जोड़ी का फोन नहीं उठा रही है। बताया जाता है कि इन दोनों के एजेंट आईसीसी के अधिकारियों के संपर्क में हैं, किसी दूसरे देश से खेलने की संभावनाएं तलाशी जारही हैं। पर भारतीय क्रिकेट बोर्ड में इनके शुभचिंतकों ने सलाह दी है कि पहले अपनी मूंछें बढ़ा कर रिज़ल्ट देख लें, फिर कोई फैसला करें।