श्रीलंकाः आतंकी संगठन तौहीद जमात का मुख्यालय तमिलनाडु में है, भारत सरकार क्या कार्रवाई करेगी?


#1

लंका के बम धमाकों में 6 भारतीयों सहित 290 निरपराध लोगों को मारने में जिस तौहीद जमात का नाम आ रहा है उसका मुख्यालय तमिलनाडु में है। एएफपी के मुताबिक श्रीलंका में जिन १३ लोगों की शुरुआती गिरफ्तारी की गयी है वो सभी इसी तौहीद जमात के सदस्य हैं।

तमिलनाडु में तौहीद जमात की स्थापना एक तमिल मुस्लिम अरिंगर कुझु ने किया था जिसका मकसद है पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में सच्चे इस्लाम को फैलाया जाए। दारुल उलूम देओबंद की तरह यह भी एक कट्टरपंथी सुन्नी इस्लामी समूह है जो बहावी विचारधारा से प्रभावित है। यह इस्लामिक समूह वैसे तो सभी गैर मुस्लिमों को अल्लाह का दुश्मन मानती है लेकिन इसका जोर ईसाई समूहों पर अधिक है।

तौहीद जमात भटके हुए इसाइयों को अल्लाह के रास्ते पर लाने के लिए एक वेबसाइट भी चलाती है जो कि तमिल भाषा में है। तौहीद जमात जिसका मतलब होता है सिर्फ अल्लाह में विश्वास रखनेवाला समूह, वह इस समय भारत के अलावा प्रमुख रूप से श्रीलंका में सक्रिय है। श्रीलंका में बम धमाकों के पहले भारत में कुछ साल पहले बाबा रामदेव के पतंजलि उत्पादों के खिलाफ फतवा देकर यह संगठन चर्चा में आया था।

सवाल ये है कि भारत सरकार क्या कार्रवाई करेगी? क्या भारत की भूमि इस तरह आतंकवाद को बढ़ावा देने के लिए इस्तेमाल होगी और सरकारें चुपचाप बैठी रहेंगी? अगर ढाका में हुए आतंकवादी हमले में नाम आने के बाद जाकिर नाईक को भारत में बैन कर दिया गया तो क्या तौहीद जमात को बैन नहीं किया जा सकता?

संजय तिवारी के फेसबुक वॉल से साभार