साध्वी प्रज्ञा के मुद्दे पर कोप भवन में जाएंगे नीतीश कुमार?


#1

क्योंकि अब चुनाव खत्म हो गया है इसलिए अब मैं इस चुनाव में बीजेपी की सबसे बड़ी गलती पर खुलकर लिख सकता हूं

इस चुनाव में अमित शाह ने सबसे बड़ी गलती की नीतीश कुमार के साथ समझौता करके… नीतीश कुमार भारतीय राजनीति का सबसे बड़ा अविश्वसनीय चेहरा है …नीतीश कुमार यदि गंगा जी में खड़े होकर भी बोले तब भी उनके ऊपर भरोसा नहीं किया जा सकता…

मुझे बहुत आश्चर्य हुआ था कि बीजेपी 2014 में बिहार में 27 सीटों पर जीत हासिल की थी और इस बार वह समझौते के तहत मात्र 17 सीटों पर चुनाव लड़ी… यानी बीजेपी ने पहले ही अपनी जीती हुई 10 सीटें छोड़ दिया …जबकि यदि बीजेपी बिहार में अकेले चुनाव लड़ती तो कम से कम 27 से 30 सीटें जरूर जीतेगी

इस बार भी आप देखिएगा बीजेपी अपने हिस्से की तो 18 से 19 सीट जीत लेगी लेकिन बिहार में जो भी नुकसान होगा वह रामविलास पासवान की पार्टी और नीतीश कुमार की पार्टी से ही होगा

सोचिए जिस इसरत जहां को खुद कांग्रेस सरकार की आईडी ने अपनी रिपोर्ट में बताया था कि वह एक आतंकवादी थी… हेडली ने अमेरिकी एजेंसी को और उससे पूछताछ करने गई भारतीय एजेंसियों को बताया था इशरत जहां लश्कर-ए-तैयबा की खूंखार आतंकवादी थी जिसे केरल में 3 महीने का प्रशिक्षण दिया गया था… केरल की लेफ्ट सरकार ने भी अपने रिपोर्ट में स्वीकार किया था केरल में 3 महीनों तक इस जहां ने प्रशिक्षण लिया था …उसके बाद भी उस इशरत जहां को नीतीश कुमार ने बिहार की बेटी बताया था और यही नीतीश कुमार साध्वी प्रज्ञा पर कह रहे हैं कि बीजेपी साध्वी प्रज्ञा को पार्टी से बाहर निकाले ??

आप मेरी बात लिख कर रखिएगा नीतीश कुमार साध्वी प्रज्ञा के मुद्दे पर जरूर कोप भवन में जाएंगे!

जितेन्द्र सिंह के फेसबुक पेज से साभार।